Search




Sad Shayari in Hindi

May 25, 2013

वो हालत की मजबूरी से चाहता था मुझे
फिर हर पल उसने अपना पयार जताया कयूँ
खबर थी उसको की हो जायेँगे जूदा एक दिन
फिर हर पल वो मेरे करीब आया कयूँ
अगर उसे भी एक दर्द देकर ही जाना था
तो आज तक मेरे जखम को सहलाये कयूँ
अगर यूँ तनहा छोडना था राह ए सफर मेँ
तो अब तक हाथ पकड कर चलना सिखाया कयूँ
मेरी आखोँ को यूँ ही उसने रूलाया था
तो मोहबत के सपनो से फिर उनको सजाया कयूँ

No comments:

Post a Comment

 

Join Me on Facebook

Archive

Blog Widget by LinkWithin