Search




Intejaar Ki Had | Shayari in Hindi

May 3, 2013

मेने तुमसे पयार किया
.
ये मेरे पयार की हद थी
.
मेने उन पर इतबार किया
.
ये मेरे इतबार की हद थी
.
मरकर भी खुली रही मेरी आँखे
.
ये मेरी इंतेजार की हद थी

No comments:

Post a Comment

 

Join Me on Facebook

Archive

Blog Widget by LinkWithin