Search




ख़ास आपके लिए Khas aapke liye

Oct 9, 2012


काश सपने हकीकत होते, मैं हर सपने में तुझे देखा करता,
काश ज़िन्दगी में हर दुआ पुरी होती, मैं हर दुआ में तुझे माँगा करता,
काश ज़िन्दगी वफादार होती, मैं सारी ज़िन्दगी तेरा साथ निभाता
काश ज़िन्दगी में लफ्ज़ काश ना होता

मुश्किलों दिलों से इरादे आजमाएगी, खुसबू के परदे निघाओं से हटाएगी
गिर कर हौसला मत हारना मेरे दोस्त, यह ठोकर ही तो हमें चलना सिखायेगी

मिलने की खुशी है या दूर रहने का ग़म, आंखों में आंसू है या उदास हैं हम
कैसे कहे की कैसे हैं हम, बस इतना समझ लो आप के बिन अकेले हैं हम

जिसकी स्तुपिद से बातें लगती हो CUTE, सहसा लगता है जिसका हर जूठ,
जिसके साथ लड़ते हुए भी आ जाए SMILE , उसे कहते है FRIENDSHIP WITH STYLE

No comments:

Post a Comment

 

Join Me on Facebook

Archive

Blog Widget by LinkWithin